Commonwealth Games: फाइनल मुकाबले में मात्र 0.01 सेकंड से चूक गई हिमा दास

Commonwealth Games

Commonwealth Games: फाइनल मुकाबले में मात्र 0.01 सेकंड से चूक गई हिमा दास

एक तरफ कॉमनवेल्थ गेम्स (Commonwealth Games) में कई खिलाड़ी अपने शानदार प्रदर्शन से देश को मेडल दिला रहे हैं वहीं कई खिलाड़ियों के हाथों निराशा भी लग रही है. भारत की मशहूर धाविका हिमा दास ने कॉमनवेल्थ गेम्स (Commonwealth Games) में महिलाओं की 200 मीटर स्पर्धा के फाइनल में मेडल जीतने की पूरी कोशिश की लेकिन वह केवल 0.01 सेकेंड के अंतर से पीछे रह गई. 22 साल की हिमा दास दूसरे सेमीफाइनल में 23.42 सेकेंड का समय निकालकर तीसरे स्थान पर रही.

तीसरे नंबर पर रहने के बावजूद मिली हार

hima das

कॉमनवेल्थ गेम्स (Commonwealth Games) में एक- एक सेकंड काफी मायने रखता है जहां इसकी एक झलक साफ देखने को मिली. महिलाओं के 200 मीटर वर्ग में 3 सेमी फाइनल हिट थी जिसमें सिर्फ दो और अगली दो सबसे तेज धाविकाओं ने फाइनल में जगह बनाई. दूसरे स्थान पर रहने वाली एला कोनोली ने 23.41 सेकेंड का समय लिया जबकि हिमा दास ने 23.42 सेकेंड का समय लिया. इस तरह महज 1 सेकेंड के अंतर ने हिमा दास का फाइनल में दौड़ने का सपना तोड़ दिया जिससे वह काफी निराश नजर आई.

Commonwealth के हॉकी में भी हारी इंडिया

hockey team

कॉमनवेल्थ गेम्स (Commonwealth Games) में भारतीय महिला हॉकी टीम को ऑस्ट्रेलिया के हाथों हार का सामना करना पड़ा जहां टीम इंडिया अब ब्रोंज मेडल के लिए न्यूजीलैंड के साथ भिड़ेगी. मैच के आखिरी मिनट में वंदना कटारिया की गोल के दम पर भारत ने शानदार वापसी की थी लेकिन भारतीय टीम इसे बरकरार नहीं रख सकी. हालांकि इस हार के बाद तरह- तरह की बातें भी कही जा रही है जहां लोगों का मानना है कि मैच के रेफरी ने इस खेल में भारतीय महिला हॉकी टीम के साथ चीटिंग की.

टेबल टेनिस में नहीं दिखा कमाल

batra

कॉमनवेल्थ गेम्स (Commonwealth Games) में हर किसी की निगाहें टेबल टेनिस की स्टार प्लेयर मनिका बत्रा पर टिकी हुई थी जहां सिंगल और मिक्स डबल मुकाबले में हार के साथ अब उनका अभियान खत्म हो चुका है. मनिका बत्रा को सिंगल मुकाबले के क्वार्टर फाइनल में सिंगापुर की जियान जेंग ने कड़ी टक्कर दी. इससे पहले उन्होंने ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी को हराकर जगह बनाई थी लेकिन उसे बरकरार नहीं रख पाई. मनिका बत्रा से कॉमनवेल्थ गेम्स (Commonwealth Games) में बहुत सी उम्मीदें थी लेकिन कहीं ना कहीं उनके अंदर एक दबाव देखने को मिला जिस वजह से वह शानदार प्रदर्शन नहीं कर पाई.

यह भी पढ़ें- Commonwealth Games: स्मृति मंधाना ने सबसे कम गेंदों में पूरा किया अर्धशतक, अपना ही रिकॉर्ड तोड़ा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *