IPL को लेकर ICC का बड़ा फैसला, पाकिस्तान को फिर लगी मिर्ची

IPL

एक बार फिर से इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) को लेकर एक बहुत बड़ा बदलाव किया गया है जहां आईपीएल फैंस के लिए यह एक बहुत बड़ी खुशखबरी है कि अब आईपीएल की अवधि ढाई महीने की कर दी गई है. इस दौरान कोई अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट निर्धारित नहीं है. इससे पहले आईपीएल (IPL) 2022 में भी एक बड़ा बदलाव देखने को मिला कि इस सीजन 8 के बजाय 10 टीमें थी और 60 की जगह 74 मैचों का आयोजन किया गया था जिसकी संख्या को एक बार फिर से बढ़ाकर भविष्य में 84 या 94 करने की बात की जा रही है जहां इस फैसले के बाद पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड बेहद ही नाराज है.

ढाई महीने तक चलेगा IPL

IPL

अब आईपीएल (IPL) की अवधि ढाई महीने की हो गई है जहां मार्च के सप्ताह से लेकर जून के पहले सप्ताह तक आईपीएल (IPL) का आयोजन किया जाएगा. आईपीएल 2022 की तरह अगली बार भी 10 टीमें मैदान पर उतरेगी. 2023 और 2024 में 74, 2025 और 2026 में 84 और 2027 में हर साल 94 आइपीएल मैच खेले जाने की उम्मीद है. आईसीसी का नया एफटीपी है वह लगभग फाइनल है.

उसमें नए बदलाव की जानकारी भी दी गई है जहां यह साफ तौर पर बताया गया है कि 2023 से अप्रैल 2027 के बीच इंटरनेशनल क्रिकेट खेली जानी है जो दो भागों में बटी है, एक विश्व टेस्ट चैंपियनशिप और दूसरा सीमित ओवर की द्विपक्षीय सीरीज लेकिन इसके बीच में जो गैप है वह असली कहानी बयां करते हैं.

पीसीबी को लगी मिर्ची

IPL

इस फैसले से पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड बिल्कुल नाराज है. यही वजह है कि इसे लेकर पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने आईसीसी से शिकायत कर दी है जहां पीसीबी का कहना है कि टी-20 लीग की संख्या काफी बढ़ गई है जिसका असर सीधे तौर पर इंटरनेशनल क्रिकेट पर और फ्यूचर टूर प्रोग्राम पर पड़ रहा है. ऐसे में इंटरनेशनल क्रिकेट टी-20 के बढ़ते प्रभाव का मूल्यांकन किया जाना चाहिए. इसके लिए एक समिति का गठन होना चाहिए जो 3 महीने में अपनी रिपोर्ट को तैयार करके पेश कर सकें. केवल इस लाइन में पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ही नहीं बल्कि दो अन्य वार्डों ने भी चिंता जाहिर की है.

यह है पूरा प्लान

IPL

दरअसल बीसीसीआई लगातार आईपीएल (IPL) के लिए 10 टीमों के विस्तार के साथ एक विस्तारित विंडो पर जोर दे रहा है. पाकिस्तान, ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड इसे कम करवाना चाहते हैं लेकिन टी-20 लीग दुनिया की सबसे बड़ी और महंगी लीग है जिस कारण उसे नंबर एक विंडो मिल सकती है. हालांकि अभी तक कोई अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है लेकिन बीसीसीआई के सचिव जय शाह के साथ-साथ सौरभ गांगुली अभी इंग्लैंड में है और इन सभी मामलों को लेकर लगातार चर्चा चल रही है.

यह भी पढ़ें- Virat Kohli ने 70 शतक कैंडी क्रश खेलकर नहीं बनाए, कोहली के सपोर्ट में उतरे शोएब अख्तर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *