Jay Shah ने छीनी सौरव गांगुली की कुर्सी, अब आगे क्या होगा?

Jay Shah

Jay Shah ने छीनी सौरव गांगुली की कुर्सी, अब आगे क्या होगा

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद जय शाह (Jay Shah) और सौरव गांगुली का नाम सबसे ज्यादा चर्चे में छाया हुआ है. बीसीसीआई अध्यक्ष के तौर पर एक नए चेहरे को देखा जा सकता है जो कोई और नहीं बल्कि बीसीसीआई सेक्रेट्ररी जय शाह (Jay Shah) होंगे जहां जय शाह के बीसीसीआई के नए अध्यक्ष बनने के बाद सौरव गांगुली को लेकर यह कहा जा रहा है कि आखिर अब सौरव गांगुली किस पद को संभालेंगे तो आपको बता दें कि सौरव गांगुली को लेकर यह उम्मीद की जा रही है कि अब वह आईसीसी के प्रेसिडेंट बन सकते हैं. दरअसल सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद बीसीसीआई के संविधान संशोधन को मंजूरी मिल गई है.

आईसीसी ने किया नियमों में बदलाव

आईसीसी ने पिछले कुछ नियमों में बदलाव करते हुए एक बड़ा फैसला लिया है जहां बर्मिंघम में हुई बैठक के बाद यह तय किया गया कि आप आईसीसी चीफ का चुनाव जीतने के लिए दो तिहाई बहुमत की जरूरत नहीं है. इसके बजाय अब 51% वोट लेकर ही नया अध्यक्ष बना जा सकता है. 16 मेंबर के बोर्ड में 9 वोट हासिल करके आईसीसी अध्यक्ष चुना जाएगा जहां बताया जा रहा है कि बीसीसीआई सौरव गांगुली का नाम चीफ के लिए सुझाया जा सकता है.

यह भी पढ़ें- IND vs PAK: वर्ल्ड कप से भारत-पाक मैच के बिके सारे टिकट, रोचक होगा मुकाबला

Jay Shah संभालेंगे ये जिम्मेदारी

अगर सौरव गांगुली को आईसीसी का अध्यक्ष बनाया जाता है तो यह पूरी तरह से तय है कि जय शाह (Jay Shah) बीसीसीआई के नए अध्यक्ष के तौर पर जाने जाएंगे क्योंकि अगर सौरव गांगुली दूसरा पद संभालेंगे तो फिर बीसीसीआई को भी एक नए अध्यक्ष की जरूरत पड़ेगी जिसमें जय शाह (Jay Shah) का नाम सबसे ऊपर आ रहा है जो फिलहाल बीसीसीआई के सेक्रेटरी के रूप में काम कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें- Rishabh Pant Urvashi rautela: सॉरी बोलकर उर्वशी रौतेला ने खत्म किया विवाद, वीडियो वायरल

सुप्रीम कोर्ट ने सुनाया अहम फैसला

सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में फैसला सुनाते हुए कहा कि राज्य एसोसिएशन में एक कार्यकाल के बाद बीसीसीआई में एक कार्यकाल के लिए कोई कूलिंग ऑफ अवधि की आवश्यकता नहीं है लेकिन राज्य एसोसिएशन या बीसीसीआई में दो कार्यकाल के बाद कूलिंग ऑफ को रखना होगा. सुप्रीम कोर्ट ने आगे बताया कि उस व्यक्ति में कोई समस्या नहीं है जिसने राज्य में या बीसीसीआई में लगातार तीन साल के दो कार्यकाल बिताई हो.

यह भी पढ़ें- Team India से हर मामले में आगे निकल रहा पाकिस्तान, फेल हो रही भारत की रणनीति