IND vs SA: ना कोच लक्ष्मण ना कप्तान धवन, किशन ने इन्हें दिया अपनी शानदार पारी का श्रेय

IND vs SA

IND vs SA: ना कोच लक्ष्मण ना कप्तान धवन, किशन ने इन्हें दिया अपनी शानदार पारी का श्रेय

रांची जेएससीए क्रिकेट स्टेडियम (JSCA Cricket Stadium Ranchi) में खेला गया भारत बनाम साउथ अफ्रीका (IND vs SA) के बीच वनडे सीरीज का दूसरे मैच को श्रेयस अय्यर और ईशान किशन की बदौलत भारत टीम ने सात विकेट से जीत लिया है. इस मुकाबले में केशव महाराज की अगुवाई वाली साउथ अफ्रीका की टीम ने टॉस जीत कर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया. जिसके बाद उन्होंने 7 विकेट के नुकसान पर भारत को 278 रनों का लक्ष्य दिया.

IND vs SA के दुसरे मैच के हीरो श्रेयस और ईशान 

इस मैच में ईशान किशन और श्रेयस अय्यर ने साउथ अफ्रीका को दिखाया अपना दम. इस मुकाबले में श्रेयस ने 111 गेंदों में 113 रनों की शतकीय पारी खेली. तो वहीं ईशान ने भी अपने बल्ले से कमाल दिखाया और 84 बॉल पर 93 रन बनाकर मात्र 7 रन से शतकीय पारी खलने से चुक गए.

ईशान किशन ने अपने शानदार पारी का श्रेय इन्हें दिया

मैच के बाद पोस्ट प्रेजेंटेशन में ईशान किशन ने कहा,

अच्छा लग रहा है की हम सीरीज में 1-1 पर है. दिल्ली में निर्णायक मुकाबले खेलने के लिए बहुत उत्साहित हूं. जिस तरह से हमने टीम में योगदान दिया उससे वास्तव में खुश हूं. यह मेरा घरेलू मैदान है, बहुत सारे लोग देख रहे थे. जब मैं फील्डिंग कर रहा था तो वे (फैंस) मुझसे आज शतक बनाने के लिए कह रहे थे, दुर्भाग्य से मैं चूक गया.

कोई चिंता नहीं, मैं बस खुश हूं कि मेरी टीम ने आज गेम जीता और शायद अगले गेम में मैं अपना सर्वश्रेष्ठ दूंगा और अपनी टीम को फिर से जीत दिलाऊंगा. यहां कभी-कभी मुश्किल होता है, क्योंकि मैंने रांची में इतने मैच खेले हैं, नए बल्लेबाजों के लिए रन बनाना आसान नहीं है, इसलिए हम गेंद की योग्यता के अनुसार खेलना चाहते थे और कोई कठोर शॉट नहीं खेलना चाहते थे.

यह भी पढ़ें- IND vs SA 2nd ODI: ‘केशव महाराज को धन्यवाद’, शिखर धवन ने जीत का श्रेय अफ्रीकी कप्तान को दिया

किशन ने आगे बात करते हुए कहा,

दूसरी टीम पर भी दबाव बनाने की बात और सकारात्मक मानसिकता ने काफी मदद की. नॉर्टजे, रबाडा बहुत चालाक हैं. कभी-कभी उनकी गेंद ठीक से नहीं आ रही थी, एक स्पर्श को रोक रही थी और फिर अगली ही गेंद वास्तव में बहुत तेजी से आ रही थी. इसलिए, मैं इसके लिए जाने की योजना बना रहा था, अगर गेंद मेरी छाती के पास होता था तो मै ऐसी गेंद पर पूर्व निर्धारित शॉट नहीं खेलता था. इसलिए मैं बस गेंद को गैप में डालने की कोशिश कर रहा था और यह मेरे लिए काम कर गई.

यह भी पढ़ें- IND vs SA 2nd ODI: साउथ अफ्रीका के खिलाफ श्रेयस अय्यर का शतक, सिराज और किशन का भी बड़ा योगदान