फैन के मिस्टर 360 कहने पर भड़के Suryakumar Yadav, बोले- वो दुनिया में एक ही है बस

Suryakumar Yadav

फैन के मिस्टर 360 कहने पर भड़के Suryakumar Yadav, बोले- वो दुनिया में एक ही है बस

भारतीय टीम के स्टार बल्लेबाज सूर्यकुमार यादव (Suryakumar Yadav) जिन्हें एबी डिविलयर्स का इंडियन वर्जन भी कहा जाता, वो सूर्या आज भारतीय टीम के लिए बहुत महत्वपूर्णं हिस्सा बन गए है. सूर्यकुमार यादव (Suryakumar Yadav) को फैंस कई नाम से बुलाते है जैसे- स्काई, मिस्टर 360, सूर्या. इनकी अनद वो क्षमता है की अकेले अपनी बल्लेबाजी से मुकाबले का रुख बदल सकते हैं. बीते रविवार को न्यूजीलैंड के खिलाफ सूर्यकुमार ने कीवी टीम के गेंदबाजों के पसीने छुड़ा दिए थे. उस मुकाबले में सूर्या ने 52 हेन्दों में 111 रनों की पारी खेली. इस मैच के बाद उन्होंने एबी डिविलियर्स को लेकर एक बयान दिया.

विश्व में केवल एक ही मिस्टर 360 है और आप उन्हें जानते हैं

न्यूजीलैंड के खिलाफ 65 रनों से जीत के बाद मैदान पर चहल टीवी को इंटरव्यू देते हुए सूर्यकुमार यादव (Suryakumar Yadav) ने अपने एक फेन को बुलाया, और उनसे एक सवाल पूछने का मौका दिया. जिसके बाद फैन ने उनसे पूछा की ‘क्या वो दुनिया के अगले मिस्टर 360 हैं?’ इस पर सूर्य ने जवाव देते हुए कहा की,

“देखिए, वर्ल्ड क्रिकेट में मिस्टर 360 एक ही हैं और वो एबी डिविलियर्स। जिनके साथ चहल भी खेल चुके हैं। मुझे उनके साथ खेलने का मौका नहीं मिला, लेकिन मैंने उनसे बात की है। आप जानते हैं कि यह कौन है। मैं केवल अपनी सर्वश्रेष्ठ क्षमता से खेलने की कोशिश करता हूं और मैं अगला सूर्यकुमार यादव बनना चाहता हूं।”

विराट भाई से हमेशा सीखता हूं- Suryakumar Yadav

स्काई ने आगे बोलते हुए कहा,

“I am veri ownerd to be a part of chahal tv (मैं बहुत भाग्यशाली हूं जो मुझे चहल टीवी पर आने का मौका मिला). इस शो पर आकर बहुत अच्छा लग रहा है. अच्छा लगता है जब सब लोग मैसेज करते हैं ट्वीट करते हैं. मैं बहुत कुछ सीखता हूं उनसे. जब सचिन सर फैन फ्रेचाइज क्रिकेट खेलते थे तो मैं उनके साथ खेला हूं और उनसे बहुत कुछ सीखा हूं. विराट भाई से हमेशा सीखता हूं जब भी हम साथ में खेलते हैं.”

सूर्यकुमार यादव (Suryakumar Yadav) ने कहा,

“जैसा कि पहले कहा गया है, मैं इस प्रारूप में एक सकारात्मक इरादे के साथ खेलना चाहता हूं. मैं बल्लेबाजी करने से पहले बहुत ज्यादा नहीं सोचता, क्योंकि सोचने का समय अभ्यास सत्र के दौरान और होटल के कमरे में होता है. आप मैदान पर बहुत अधिक जोखिम नहीं उठा सकते, आपको मैदान पर बस आनंद लेने की जरूरत है.”

यह भी पढ़ें- Rohit Sharma की कप्तानी पर लटकी बीसीसीआई की तलवार, विराट कोहली को फिर से दी जा सकती है कप्तानी